Kanke, Ranchi, Jharkhand

( A State Government University )

बीएयू : कृषि संकाय के नये छात्रों का ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन

बिरसा कृषि विश्वविद्यालय अंतर्गत कार्यरत कृषि संकाय के अधीन संचालित छह कॉलेजों में नामांकित नये छात्र-छात्राओं का ओरिएंटेशन कार्यक्रम शुरू हुआ। विवि के सत्र 2020-21 में कृषि संकाय के छह कॉलेजों में 278 छात्र-छात्राओं ने नामांकन लिया है। इनमें 126 छात्र और 152 छात्राएं शामिल है। विवि के ग्रेजुएट प्रोग्राम में यह नामांकन झारखंड संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पर्षद (जेसीईसीईबी) की अनुशंसा पर की गई है।

प्रथम चरण में गुरुवार को रांची कृषि महाविद्यालय, कांके एवं कृषि महाविद्यालय, गढ़वा के छात्रों का ऑनलाइन माध्यम से ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में डीन एग्रीकल्चर डॉ एमएस यादव ने भारत वर्ष में चरणबद्ध तरीके से कृषि शिक्षा के क्षेत्र में विस्तार के बारे में बताया। उन्‍होंने कहा कि पूरे भारत वर्ष में छात्रों को कृषि शिक्षा में समरूपता के लिए एकसमान सेमेस्टर आधारित कृषि शिक्षा प्रणाली लागू की गयी है। देश में प्रत्येक वर्ष करीब 25 हजार छात्रों का अंडर ग्रेजुएट इन एग्रीकल्चर पाठ्यक्रम में नामांकन होता है। करीब 23 हजार वैज्ञानिक/शिक्षक कृषि शिक्षा से जुड़े है। कृषि शिक्षा के तहत देश में ग्यारह विषयों पर अंडर ग्रेजुएट कार्यक्रम चलाये जा रहे है। प्रदेश के एकमात्र राज्य कृषि विश्वविद्यालय में कार्यरत ग्यारह कॉलेजों के तहत पांच विषयों पर अंडर ग्रेजुएट कार्यक्रम चलाये जा रहे है। संकाय में कृषि विषय पर चार और कृषि अभियंत्रण व उद्यान विषय के एक-एक कॉलेज कार्यरत है। कोविड-19 की वजह से जल्द ही नये छात्र-छात्राओं का ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की जाएगी।

मौके पर संकाय के वार्डन डॉ राकेश कुमार ने बताया कि कृषि महाविद्यालयों में पूरी तरह आवासीय शिक्षा प्रणाली का पालन अनिवार्य है। संकाय में छात्रों के लिए चार और छात्राओं के लिए पांच छात्रावास, मेस, मेडिकल एवं अन्य सुविधा दी जाती है।

सहायक कुलसचिव डॉ शशि किरण तिर्की ने बताया की चार वर्षीय अंडर ग्रेजुएट प्रोग्राम में कुल आठ सेमेस्टर होते है। हर सेमेस्टर छह महीनों का होता, जहां 115 दिनों का कार्य दिवस अनिवार्य होगा। कोर्स के तहत इंटरनल एवं एक्सटर्नल परीक्षा पैटर्न अधीन आधारित होगी। सेमेस्टर की परीक्षा पास करने के बाद ही अगले सेमेस्टर में पंजीयन और 85 प्रतिशत क्लास में उपस्थिति अनिवार्य होगी। छात्रों को आईसीएआर कोटा, सेमेस्टर में सर्वाधिक अंक लेन वाले पांच छात्रों, गरीब वर्गों के छात्रों के लिए तथा ई कल्याण में से किसी एक स्कालरशिप प्रदान किया जायेगा।

संकाय सदस्य डॉ सीएस सिंह ने कृषि क्षेत्र में नवीनतम बदलाव एवं तकनीकों एवं डॉ सीएस महतो ने विवि की एकेडमिक मैनेजमेंट सिस्टम के बारे में छात्रों को बताया। संकाय सदस्य डॉ एचसी लाल ने खेलकूद, सांस्कृतिक, शैक्षणिक भ्रमण एवं कृषि क्षेत्र में रोजगार के अवसर की जानकारी दी।

सभी नव नामांकित छात्रों का स्वागत और अभिनंदन करते हुए डॉ निभा बाड़ा ने भगवान बिरसा मुंडा का जीवनी एवं आदर्शो पर चलकर छात्रों की उज्ज्वल भविष्य की कामना की। ऑनलाइन ओरिएंटेशन कार्यक्रम का संचालन डॉ स्वाति‍ शबनम और डॉ डॉ अभय कुमार द्वारा किया गया। दो चरणों में आयोजित इस ओरिएंटेशन कार्यक्रम में रांची कृषि महाविद्यालय के नव नामांकित 79 छात्रों में से 65 छात्रों ने और कृषि कॉलेज, गढ़वा के 45 छात्रों में से 38 छात्रों ने भाग लिया। रविन्द्र नाथ टैगोर कृषि महाविद्यालय, देवघर एवं तिलका मांझी कृषि महाविद्यालय, गोड्डा में नव नामांकित 83 छात्रों का ओरिएंटेशन कार्यक्रम शुक्रवार को होगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *